राष्ट्र हित सर्वोपरि

राष्ट्र निर्माण पार्टी

राजनैतिक चिन्तन का आधार

प्रत्येक को अपनी ही उन्नति से सन्तुष्ट न रहना चाहिए, किन्तु सबकी उन्नति में अपनी अपनी उन्नति समझनी चाहिए।

महर्षि दयानन्द सरस्वती

राष्ट्र निर्माण पार्टी

राष्ट्र निर्माण पार्टी का ध्येय वाक्य है ‘ राष्ट्र हित सर्वोपरि ‘। इसका अभिप्राय है कि हमारी पार्टी और भावी सरकार जो भी निर्णय लेगी वे व्यक्ति,समाज ,पार्टी ,मत -पंन्थ ,जाति , क्षेत्र आदि के हितों से ऊपर उठकर केवल राष्ट्र हित में किये जायेंगे। सभी निर्णय समानता के सिद्धान्त पर किये जायेंगे। उदाहरण के लिये यदि गरीब छात्रों को छात्रवृत्ति दी जानी है तो वे छात्र जो गरीबी रेखा में आते हों ,सभी को छात्रवृत्ति दी जायेगी।जाति ,धर्म या क्षेत्र विशेष के आधार पर किसी प्रकार का भेदभाव या पक्षपात किसी के साथ नहीं किया जायेगा।सारे नीतिगत निर्णय इसी प्रकार बिना किसी भेदभाव या पक्षपात के किये जायेंगे।

Scroll to Top